The Unadorned

My literary blog to keep track of my creative mood swings with poems n short stories, book reviews n humorous prose, travelogues n photography, reflections n translations, both in English n Hindi.

My Photo
Name:

I'm a peace-loving married Indian male on the right side of '50 with college-going children, and presently employed under government. Educationally I've a master's degree in History, and another in Computer Application. Besides, I've a post graduate diploma in Management. My published works are:- (1)"In Harness", ISBN 81-8157-183-5, a poetry collections and (2) "The Remix of Orchid", ISBN 978-81-7525-729-0, a short story collections with a foreword by Mr. Ruskin Bond, (3) "Virasat", ISBN 978-81-7525-982-9, again a short story collection but in Hindi, (4) "Ek Saal Baad," ISBN 978-81-906496-8-1, my second Story Collection in Hindi.

Tuesday, September 13, 2016

Hindi Poem: कुछ मुकम्मल सा....



कुछ मुकम्मल सा...
===========

कहा न !

आप खुश हो नहीं सकते

बगैर इजाज़त के मेरी 

यह फरमान है मेरा, समझे ?

मियां ! क्या ख़बर ?

बहुत खुश लगते हो, सुबह-सुबह

ज़रा मुझे भी तो पता चले !

रख कर रूमाल मूंह पर, रात में

सोना अब ज़रूरी हो गया

क्या पता, सपनों में बवाल मच जायेंगे?

आजकल वे लोग ख़ामोश होना पसंद नहीं करते

बड़े जोशीले हैं वे

आते हैं ख़ामोशी से सज-धज कर

पर आ कर शोरगुल मचा देते हैं ।

डायरी मेरी बिलकुल कोरी है

उसमें जो गुलाब पंखुडियों से बने निशान

अब मैं उनका क्या करूं ?

कुछ गलती तो नहीं हुई ?

अक्सर चिंतित हूँ मैं  

सपने गुज़र जाने के बाद...

घर्राट बन कर घूमते जाना धरम है मेरा

क्या फर्क पड़ता है

कूल से पानी सूख जाये फिर भी...

क्या फर्क पड़ता सूखी बावड़ी में

मोतियों के बगैर अब

बेजान सीप ही सोया है ?  

अच्छा होता अगर

मैं द्विखंडित हो जाता

मैं और मेरा ऑल्टर ईगो

मैं कहीं भी जाऊं कम से कम

मैं तो यहाँ भी मौजूद रहता !

जैसे आसमान में चाँद

फिर भी मेरे प्याले में भी

चांद का यहाँ घूमना नि:संकोच

थोड़े न पता चलता होगा

उन चमकते हुए सितारों को ?   
____________________________
By
A. N. Nanda
New Delhi
13-09-2016
___________________________

Labels:

Thursday, July 21, 2016

Among Dear Little Doves

Among Dear Little Doves
(Translated from my Hindi Story, कबूतरों के साथ )
Finally an incurable disease afflicted him like an inexpiable black curse. So deadly was the disease that even one would not like one’s sworn enemy to be diagnosed of that. Who is not aware of the horrendous consequence of cancer? It was all in the destiny of his family to be rendered destitute, and in time situation came to such a pass that nobody else was left to come to their rescue. True, he was a government employee and that was how whatever medical reimbursement was admissible just pushed the wheels of life a little ahead. And one day doctors in that Mumbai hospital where he was undergoing the treatment advised him to go home. Respecting their advice he just left the hospital bed. At home he stuck to his bed and waited patiently for the day to come when he would breathe his last.

The luckless fellow I’m talking about was Ram Khilaban Pandey, a sorting assistant in a certain mail office. He was at the doorstep of his middle age, say on the right side of forties. Had he not come face to face with this deadly disease he would have served another twenty years. He was a person of robust build and more than his physique his moustache endowed him an imposing personality. Ferocious—honestly, one could use the word for a precise description of Ram Khilaban.

God only knew it, what else did he wish to do during his twenty years of service? He was not a soul to be satisfied with the salary he used to receive at the end of every month. So paltry it was! He practised moneylending, became a leader of a group and as there was need to terrorise others in those pursuits, he did not hesitate to resort to that. In this way, he managed to register a powerful presence in his circle. He ever hated to join the issue as to which one was moral and which one was not. Like all practical persons in this world, he just believed in the popular adage: End justifies means. And for him anything that was practical had got to be moral! So much clear was he in his mind about what he thought or what he did that he did not care a damn as he took pigeons out of their nests to eat them. Well, he was not eating them raw but saw to it that the birds were made into savoury dishes first before he actually relished them as his food.

There were many among his colleagues who did not approve of the style of Ram Khilaban, but only a few of them could muster courage enough to actually dissuade him from this. Especially his senior colleague Prabhudayal used to advise him, ‘What’s that you’re doing, Ram Khilaban? Poor little birds they are, and what harm have they done to you so that you’re killing them almost one every week? And eating them so brutally?’

Despite his unrestrained disposition, one good quality about Ram Khilaban was that he did not retort in reply to Prabhudayal’s words of advice. He was the only person that received the respect of Ram Khilaban. So, faced with the vigilant watch of Prabhudayal, he had to change his plan of stealing pigeons from the office. He used to patiently wait for the day Prabhudayal would be on leave so that he could take pigeons from the mail office without any restrictions.

It was not a fact that supervisor Prabhudayal wielded so much power over Ram Khilaban only on account of his seniority. Rather, as a person he was the possessor of a cultivated religious temperament. He used to advise Ram Khilaban on religious lines too. Sometimes, he would not hesitate to sanctimoniously remind Ram Khilaban about his caste.

‘Oh, Ram Khilaban, you're a Brahmin, aren’t you? And does it behove you to indulge in all these? Your entire clan is vegetarian but you don’t hesitate to relish the flesh of a pigeon?’ once the supervisor Prabhudayal exhorted.

Ram Khilaban did not respond to what Prabhudayal said in the spirit of mild reprimand. Rather he chose to remain silent. He was not interested in opening a stultifying session of Q & A, not in the least. As for him, there was no answer for the question that Prabhudayal posed, in that the world was also the abode of millions of meat-eaters. Then he thought, ‘When a pigeon is not a human being, why then should there be so much fuss about my killing it?’

But one day realisation was to dawn on Ram Khilaban. In fact a ray of knowledge illuminated the dark cell of his mind all of a sudden. The event that happened was something like this. That day Ram Khilaban stole a pigeon and per chance the supervisor Prabhudayal was on duty. On other days he used to twist the neck of those birds a full round that killed them instantly, but on that day he had forgotten to complete that formality. He just hid it inside the bag and came to Prabhudayal.

‘Sir, may I go out for half an hour?’ Ram Khilaban sought for permission from Prabhudayal.

‘But why? Don’t you know mails will arrive at any moment now? What’s so urgent with you that you want to go out at this moment?’ asked Prabhudayal.

‘I hate to remain absent at this moment but then what to do? I’ve some unusual rumbling in my stomach and I want to go home and swallow some pills.’ Hardly had Ram Khilaban finished his words than a pigeon managed to set itself free out of the bag and reached Prabhudayal. Exhausted and panting, the poor little bird sat on the table.

Ram Khilaban could have managed the situation had he not reached out to the bird to take it on grip. But what else could he have done when his hands acted so compulsively?

Now Prabhudayal understood everything. Why did Ram Khilaban ask for permission to go out of the office for a spell of half an hour, where from did an exhausted and half-strangled pigeon come to perch on his table, why did Ram Khilaban take the bird in his grip—everything was clear to Prabhudayal. He became crestfallen. It was his realisation that despite all his efforts, he had miserably failed to exert any influence on his wayward colleague. All these years he could not kindle in his mind even a spark of compassion towards living beings.

Just in a matter of minutes Prabhudayal was out of his mood of despondency. He was now agog with new optimism. Why can't he make another attempt? Having spent all his life in experimenting and meditating, he was by now spiritually matured. In fact he was too matured to be let down by this temporary setback. He believed that there is always an abundance of goodness in human beings, ready to bloom at any moment. That is why we are all humans. The only prerequisite for such efflorescence is the company of spiritually awakened souls. One should wait for the arrival of one’s moment of spiritual break.

‘Do you know, Ram Khilaban, who these pigeons are?’ asked Prabhudayal in a tone that was soft but profound. He was calm and serene, unperturbed at the vicissitude of the banal world.

Ram Khilaban was shocked. He began to ponder, ‘Well, a pigeon is, after all, a pigeon. What else could it be if it’s not a pigeon?’

Finding his colleague greatly confused, Prabhudayal said, ‘Look my dear, don’t think that these birds are simply pigeons. This one was a sorting assistant in this very office in his previous birth. His name was Brijbhushan who died of a massive heart attack. Aha, the poor old soul didn't stay away from his letters and parcels till he breathed his last.’

Prabhudayal's words were pregnant with meaning, nay full of profound spiritual content. And they were powerful too. Had it been a different moment Ram Khilaban could not have understood them. But now there was receptiveness all around: his internal self was clearly ready to receive and internalise those spiritual strokes. Until this moment Ram Khilaban had discarded many things as either too banal or too abstruse, but now rays of new light fell on them just to illuminate them afresh. The lovely little pigeon sitting before him was not a simple bird; it was reincarnation of human soul. Thus Ram Khilaban could not help being submerged in the surge of his new realisation. And he wondered, ‘Eek! Were those hundred-odd pigeons I’ve eaten so far my great ancestors? Have I been so blithely unaware that what I was eating all these years was the flesh of human beings? Am I such a demon?’

Back home Ram Khilaban fell ill. It was all shock and shriek for him. He took leave from office. Then he consulted doctors, from the family doctor to the specialists of the town; got hospitalised and moved from the local health centre to the district headquarters hospital. And finally he reached Tata Memorial Cancer Hospital, Mumbai. By that time cancer had already spread from stomach to other internal organs. There the doctors sprang into action and chemo vials were injected into his body one after the other. Some result definitely came to be seen, improving the quality of life greatly, but that was only for a few days. Finally doctors advised Ram Khilaban to go home. And the fighter in him understood what the doctors meant by that.

Lying on the same bed continuously for two months, Ram Khilaban was bored to a hilt. Now he was not afraid of death. He had arrived at his own findings about life and death. People are afraid of uncertainties. And death for him was not going to be an uncertain eventuality any longer. He was ready to fight any attempt to tut-tut at him, for he had begun to imagine his way ahead. Even he would share it, in case anybody would benefit by that. He thought, ‘Shouldn’t I go to my office, even for a while? After all, I’ll be living there even after my death, won’t I?’

He sent a word to Prabhudayal through one of his relatives. And Prabhudayal visited Ram Khilaban without any loss of time.

It is often seen that spiritually immersed people love to adore people who are about to die, for the one who is going to die will be meeting God soon. Prabhudayal was for choosing the right words, a manner of articulation that would best console Ram Khilaban. More than medicine, moribund Ram Khilaban needed consolation urgently and Prabhudayal was there to reel that out.

Lo and behold! Ram Khilaban was totally fearless. Prabhudayal suspected the fellow had already known the secret meaning of human life which had eluded him so far despite his rigorous penance all through his life. How else a person so painfully enduring the death throes could adopt such a lofty posture of fearlessness?

‘Sir, I wonder if I could go to office just for once,’ pleaded Ram Khilaban.

‘Oh yes, by all means,’ agreed Prabhudayal without so much as a twitch of hesitation.

When both of them reached office, it was already night. All drafted for night duty were busy disposing their work. There were heaps of mail all around. Seeing Ram Khilaban everyone was drawn towards him. All wanted to know his wellbeing and he, too, replied to those friendly queries smilingly.

Finally Ram Khilaban went near the pigeons, resting snugly in their nests for the night. The birds could recognise his presence by moving their heads, some of them even crooned briefly but they were far from being afraid of him. Had it been the case of any other day they would have shown panic reaction. They would have fluttered their wings and taken a desperate flight in all directions to escape the doom. But today no such thing was necessary. The birds knew everything: they knew only a friend was standing before them.

Ram Khilaban came home and returned to his bed. Just two days later he breathed his last.
-----------------------------------
By
A N Nanda
Trivandrum
21-07-2016
-----------------------------------

Labels: ,

Thursday, July 07, 2016

सूबेदार और ज़मींदार


सूबेदार और ज़मींदार
============
श्रीमान्‌ भारतेन्दु वहिदार आख़िर में अपने राज्य में आ ही गए। अपनी पैंतीस साल की नौकरी के दौरान उन्होंने अपने राज्य के सिवा और कई जगहों में काम किया, पर वे इतने खुशनसीब न थे कि इससे पहले अपने राज्य में किसी पद पर काम कर सकें। ख़ैर, देर ही सही, अब काम तो बन गया। वहिदार साहब आकर मध्यराष्ट्र परिमंडल में चीफ़ पोस्टमास्टर जनरल बन गए। जगह थी अपनी, भाषा भी अपनी, फिर भी शुरू में उन्हें सब कुछ नए लगे। मध्यराष्ट्र सूबे की राजधानी रामेशवरनगर में डाक परिमंडल का मुखिया बनकर वे सचमुच आत्म-विभोर हो गए। कार्यालय-भवन की दूसरी मंज़िल में स्थित अपने कमरे के झरोखा से बाहर गगनचुंबी इमारतों का नज़ारा देखकर, लोगों का बधाई-संदेश पढ़कर, चाहनेवालों से सुगंधित गुलदस्तों को स्वीकारकर, पुराने दोस्तों का हाल-समाचार सुनकर उन्हें नौकरी करने का सच्चा सुख प्राप्त होने लगा।

ख़ुशी का दौर ख़त्म होते ही वे काम में लग गए। अपने राज्य में डाक संस्था का मुख्य होने पर कुछ कर गुज़रने का ख़्याल उनको शुरू से ही था। आज उस सपने को साकार करने का मौक़ा आ गया। कम-से-कम समय में वे अपने कार्यक्षेत्र से संबंधित न्यूनतम जानकारियाँ हासिल कर लेना चाहते थे। अपने पैंतीस साल के तजुर्बे से वे विभाग के बारे में ऐसा बहुत कुछ जानते थे जो जगह बदलने पर भी बदलते नहीं। एक डाक कर्मचारी अपने विभाग से क्या चाहता है, उसे उसे किन-किन कार्यों में महारत हासिल है, अपने वरिष्ठ अधिकारियों से उसे क्या-क्या अपेक्षाएँ हैं, डाक सेवा को लेकर लोगों की अच्छी-बुरी क्या धारणाएँ हैं---वे सब मालूम थीं वहिदार साहब को। फिर नई जगह में काम करने में उन्हें क्यों अड़चन आती?

साहब की असली अड़चन कार्यालय से नहीं बल्कि घरेलू उलझन से थी। अब तक नौकरी में पैंतीस साल गुज़र चुके थे पर वे अपने लिए एक मकान भी नहीं बनवा पाये। आर्थिक दृष्टि से वे इतने कमज़ोर न थे कि दो-तीन कोठरीवाला एक आवासीय भवन नहीं बनवा पाते, मगर वे सोचते थे, 'बेमतलब घर किसके लिए बनाऊँ? क्या अपनी मेहनत की कमाई को लगाकर किरायेदार को आराम पहुँचाऊँ?’

सेवा की अवधि अब एक साल में ख़त्म होने वाली है। वे अपनी इस माँग को और टाल नहीं सकते। उनकी धर्मपत्नी भी चाहती थीं कि कैसे भी हो अपना मकान इस एक साल के अंदर बना लिया जाए, नहीं तो इसके बाद कहाँ जाएँगे? जैसे ही वहिदार साहब सेवानिवृत होंगे, नए चीफ़ पोस्टमास्टर जनरल सरकारी आवास में रहने आ जाएँगे। शिष्टाचार के लिहाज़ से वहिदार दंपति को यह आवासीय भवन नए चीफ़ पोस्टमास्टर जनरल के आने से पहले छोड़ देना सही रहेगा। तब वहिदार साहब बेघर हो जाएँगे। रहने के लिए उन दोनों पति-पत्नी को क्या अपनी बेटी और जमाई के पास जाना पड़ेगा? उनको तो अपना बेटा नहीं था, अगर वह भी होता भगवान जाने वह कैसा होता ! आमतौर पर आजकल बेटे लोग अपने माँ-बाप की ख़ुशी का इतना ख़्याल नहीं रखते।

श्रीमान्‌ भारतेन्दु वहिदार, मध्यराष्ट्र परिमंडल के चीफ़ पोस्टमास्टर जनरल ने आख़िर में मकान बनवाने का मन बना लिया। अपने करीबी अधिकारियों के साथ बातचीत करते वक्त उन्होंने अपनी इस योजना के बारे में बता दिया। उन लोगों में जिनको घर बनाने का तजुर्बा था, वे लोग वहिदार साहब से इस संबंध में बातें करने लगे। ख़ैर, ऑफ़िसर को जो पसंद है, कर्मचारी वही बात करते हैं। उन्हें अगर शतरंज खेल में शौक़ होता, तो कर्मचारी उनके साथ शतरंज की गूढ़ चालों के बारे में बातें करते; उन्हें शायरी में दिलचस्पी रहती, तो वे लोग रोज़ नई-नई शायरी लाकर उन्हें भेंट देते। ऑफ़िसर अब घर बनाने को मन बनाया, सो लोग उनके साथ इर्टं-सीमेंट की चर्चा करने लगे।

मगर बात सिर्फ़ इर्टं-सीमेंट की न थी। घर बनाएँ, तो कहाँ बनाएँ, जब वहिदार साहब के पास ज़मीन ही नहीं। सबसे पहले उन्हें ज़मीन ख़रीदनी थी, फिर मकान बनाने का दौर शुरू होता।

लोग कहते हैं, ज़मीन, औरत और विद्या भाग्य में ही लिखी होतीं हैं, पर उस भाग्य को पढ़ने वाला तो वहिदार साहब के पास आ ही नहीं सकता था। साहब इन सब बातों पर कतई विश्वास नहीं करते थे। एक ही रास्ता बचा था और वह था किसी बिचौलिये के मार्फ़त ज़मीन लेना। आख़िर में साहब को वही करना पड़ेगा। सचमुच वे ऐसा ही सोच रहे थे।

किस्मत से साहब को खबर मिली कि अपने परिमंडल में किसी अतिरिक्त विभागीय डाक वाहक श्री रूँगटा विराग ज़मीन ख़रीदने में सहायता कर सकता है। वह कर्मचारी एक बिचौलिया था, पर अपने विभाग में इतने बड़े अधिकारी के साथ व्यापार उसने पहले कभी नहीं किया था। आज एक ज़बरदस्त मौक़ा उसके हाथ लग गया।

अक्सर अतिरिक्त विभागीय कर्मचारी देहात में डाक संचालन करते हैं और चीफ़ पोस्टमास्टर जनरल जैसे बड़े ऑफ़िसर से मिलने का अवसर उन्हें कम मिलता है। लेकिन श्री रूँगटा विराग इन लोगों से भिन्न था, जो खुद को किसी उच्च अधिकारी से कम नहीं समझता था। शहर के उपांत स्थित एक डाकघर में वह काम करता था और डाक लाने व ले जाने के लिए वह रोज़ शहर आना-जाना करता था। तब विकास और शहरीकरण के दौर में रामेशवरनगर आकार और आबादी दोनों में बढ़ने लगा था और देखते ही देखते रूँगटा का डाक घर भी शहर के अंदर समा गया। रूँगटा ने इस बदलाव को अच्छी तरह समझ लिया। उसने अपने लिए एक नया उप-धंधा चुन लिया। इस प्रकार श्री रूँगटा विराग बन गया एक विचक्षण बिचौलिया! पिछले पंद्रह साल में दिमाग़ के बलबूते  उसने कितनों को बुद्धू बनाया, कितने कागजात को असली-नक़ली किया, कितने लोगों से अग्रिम लेकर लौटाने में विलंब किया--इसका हिसाब नहीं। ऐसे लोग जो रूँगटा से अपने पैसे वसूलने में नाकामयाब रहे, उन लोगों ने आकर डाक मंडल अधीक्षक से रूँगटा की शिकायत की, पर नतीजा कुछ न निकला। हाँ, एकाध अनुशासनात्मक कार्रवाई तो शुरू कर दी गई, पर इन सब मामले में गवाह भी तो चाहिए! शुरू-शुरू में कुछ मार-धाड़ अवश्य हुए, मगर आजकल रूँगटा अकेला नहीं है। अब न पुलिसवाले कुछ कर सकते हैं, न विभागीय अधिकारी । कौन, क्या बिगाड़ सकता है उसका?

आज जैसे ही वहिदार साहब ने रूँगटा को अपने पास बुलाया उसने सज-धज कर परिमंडल कार्यालय में दस्तक दी। सफ़ेद कुर्ता, सफ़ेद धोती और इत्र से महकता हुआ लाल पट्टीवाली चद्दर---वह एक पहुँचा हुआ तृणमूल राजनीतिज्ञ जैसा लग रहा था। साहब के कमरे में आकर बैठने के लिए उसने इजाज़त लेना ज़रूरी नहीं समझा; ऐसे ही कुर्सी पर बैठ गया। चीफ़ पोस्टमास्टर जनरल श्रीमान्‌ वहिदार साहब को रूँगटा का इस प्रकार का हाव-भाव कुछ अच्छा नहीं लगा, पर वे क्या करते? उन्होंने सोचा, 'इस लोकतंत्र की दौर में तहज़ीब आज़माने से बहुत पहले लोग ऐसे ही ऊपर तक पहुँच जाते हैं। फिर रूँगटा की बात तो अलग है; वह मुझे कुछ देने आया है, लेने नहीं! आज अगर मैं अपनी अधिकारीगिरी थोपने लगूँ तो सेवानिवृत होने तक घर कैसे बना पाऊँगा?’

प्रारंभिक बात के सिलसिले में रूँगटा ने बहुत कुछ कहा। किन-किन बड़े लोगों के साथ उसका उठना-बैठना होता है, हाल में किन-किन लोगों को उसने ज़मीन दिला दी, कहाँ उसका अपना तीसरा मकान बन रहा है, वगैरह, वगैरह। बीच में टोके वगैर चीफ़ पोस्टमास्टर जनरल श्रीमान्‌ भारतेंदु वहिदार सब सुनते गए, बिल्कुल एक आज्ञाकारी छात्र जैसे।

'हाँ जी, भगवान की कृपा से मुझे अभाव नहीं है। मैं आपसे कोई कमीशन की अपेक्षा नहीं रखता हूँ, फिर भी....ज़मीन के मामले में लोग कुछ-न-कुछ अग्रिम चाहते हैं,’ अब रूँगटा मतलब की बात करने लगा।

'नहीं, मेरे ख़्याल में अग्रिम देकर बात को उलझाना ठीक नहीं होगा, रूँगटा जी। क्या इसके बिना काम नहीं बनेगा?’ आख़िर वहिदार साहब ने अपनी शंका स्पष्ट कर दी।

ऐसा लगता था कि साहब की बात रूँगटा को पसंद न आई। वह एक मिनट के लिए चुप रहा। उसे अब पता चल गया था कि मामला यहाँ फ़िट होने वाला नहीं है। फिर जाने से पहले कुछ ऐसे कहकर निकल पड़ा, 'मैं कोशिश करके देखता हूँ, पर क्या करूँ, आजकल ज़मीन ख़रीदने के लिए लोगों की मारामारी ! फिर भी...

साहब ने बिचौलिया से तो मिल लिया, पर वे उस शख़्स पर इतनी आसानी से भरोसा नहीं कर पाये। इस दर्मियान रूँगटा की नीयत के बारे में वे कुछ खोज-बीन भी कर चुके थे। सूचना के आधार पर वे जोखिम उठाने के पक्ष में न थे। दूसरी ओर उन्होंने ऐसा भी सोचा, 'ज़मीन क्या साबुन, टूथ-पेस्ट जैसा सामान है जिसे किसी दूकान के काउंटर पर ऐसे ही ख़रीदा जा सके! क्या पहले सामान, फिर बिल, फिर भुगतान--ऐसे ज़मीन का भी सौदा होना चाहिए? अगर मैं अपनी सोच में थोड़ा-सा ढील न दूँ, तो यह भी हो सकता है कि कोई भी ज़मीन बेचने वाला मेरी तरफ़ नज़र उठाकर देखेगा ही नहीं। लोग जानते हैं कि मैं बड़ा अधिकारी हूँ, पर इससे ज़मीन बेचने वालों को क्या लेना-देना?’

श्रीमान्‌ भारतेन्दु वहिदार अपनी बीवी की राय पर भरोसा करते थे। दुनियादारी में औरतों का कोई मुक़ाबला नहीं। मर्दों की अक़्ल को कैसे निखारना है, यह उन्हें बचपन में ही सिखाया जाता है। आज वहिदार साहब ने तय कर लिया कि अगर उन्हें और आगे जाना होगा, तो साथ में अपनी बीवी की सलाह होना निहायत आवश्यक है।

ऐसा लगता था कि श्रीमती वहिदार को घर बनाने की जल्दी थी। उन्होंने अपने पति को बिचौलिए के मार्फ़त ज़मीन ख़रीदने की सलाह दे दी। साथ में कुछ अग्रिम देने को भी कह दिया। वैसे तो उन्होंने स्पष्ट नहीं किया था कि राशि कितनी दी जानी चाहिए। अगर वहिदार साहब अपनी श्रीमतीजी से पूछ बैठते, तो कोई ज़रुरी नहीं कि वे अपनी राय स्पष्ट करती। आखिर में औरत यह भी जानती है कि सलाह देने के मामले में किस हद तक जाना चाहिए। हर मामले में बीवी को आधी ही ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए न कि पूरी !

रूँगटा को अग्रिम मिल गया और वह ज़मीन ख़रीदने में जुट गया। वैसे तो उसके पास दो-तीन प्रस्ताव थे, पर वे सब वास्तु के हिसाब से सही न थे। फिर वह कैसे उस घटिया क़िस्म की ज़मीन अपने उच्च अधिकारी को दिलवाता?

समय बीतता गया। दो महीने क्या, दो साल भी काफ़ी नहीं होते हैं, एक ऐसी ज़मीन तलाशने के लिए जो हर दृष्टि से शुभकारी हो। यहाँ वहिदार साहब की नौकरी भी ख़त्म होने जा रही थी। उनमें शंका आने लगी, 'अगर ज़मीन खोजते-खोजते मैं सेवानिवृत हो जाऊँ, तो क्या रूँगटा मेरा पैसा लौटाएगा? पचास हज़ार रुपये कुछ कम नहीं होते हैं! अगर रूँगटा ने मेरा पैसा नहीं लौटाया, तो मैं  उसका क्या कर पाऊँगा?’

नौकरी के अंत में सेवानिवृत होना और ज़िंदगी के आख़िरी पड़ाव में मौत के साथ मुलाक़त होना, क्या कोई टाल सकता है? समय आने पर वहिदार साहब सेवानिवृत हो गए। उनके विदाई-समारोह में शामिल होने रूँगटा परिमंडल कार्यालय आया था। सबको मालूम था कि रूँगटा बिचौलिया साहब के लिए ज़मीन खोज नहीं पाया, लेकिन कोई यह नहीं जानता था कि क्या सचमुच रुंगटा ने साहब से लिया हुआ पैसा लौटा दिया? साहब ने भी इसके बारे में किसी से बात नहीं की थी। वार्तालाप के लिए उन्होंने और विषय चुन लिया, जैसे कि सूफ़ी संगीत, जादू सम्राट पी. सी. सरकार, एस्पेराँतो भाषा की सहूलियतें, रास्ते में कुत्तों का प्रादुर्भाव, ऐसे कई और, पर ज़मीनवाली बात पर मानो फूल स्टॉप ही पड़ गया था। वाह वहिदार साहब, मन बहलाना तो कोई आपसे सीखे!
 
अरे, हाँ। साहब अपनी नौकरी के आख़िरी दो-तीन महीनों से ज़रूर कार्यव्यस्त थे। उन्होंने अपनी पैतृक ज़मीन पर घर बना लिया था। अपने इस निर्णय के पक्ष में वे बोलते थे, 'आजकल गाँव में क्या अभाव है? बिजली, पानी, सड़क, केबुल टी. वी., मोबाइल फ़ोन, इंटरनेट---सब  मिलते हैं, गाँव में। अगर चैन से समय गुज़ारना है तो गाँव लौटकर आज़मा के तो देखिए।'
-------------------------------
By
A N Nanda
Trivandrum
07-07-2016
------------------------------

Labels: ,