The Unadorned

My literary blog to keep track of my creative mood swings with poems n short stories, book reviews n humorous prose, travelogues n photography, reflections n translations, both in English n Hindi.

My Photo
Name:

I'm a peace-loving married Indian male on the right side of '50 with college-going children, and presently employed under government. Educationally I've a master's degree in History, and another in Computer Application. Besides, I've a post graduate diploma in Management. My published works are:- (1)"In Harness", ISBN 81-8157-183-5, a poetry collections and (2) "The Remix of Orchid", ISBN 978-81-7525-729-0, a short story collections with a foreword by Mr. Ruskin Bond, (3) "Virasat", ISBN 978-81-7525-982-9, again a short story collection but in Hindi, (4) "Ek Saal Baad," ISBN 978-81-906496-8-1, my second Story Collection in Hindi.

Thursday, March 26, 2015

जाते-जाते




जा ते - जा ते 

समझता हूँ मैं जो तुम सोचती हो

अपनी भावना की गठरी से कुछ तो मेरी तरफ़ बिखेरती होंगी  

है कहीं फासला तुम्हारी सोच और मेरी समझ के बीच ?


सब तो आते हैं मेले में,

आखिर मक्सद एक ही होता है

पर पहनावे में फर्क है क्योंकि

पहनते हैं हम जान-बूझकर,

करते हैं औरों को गुमराह

पर तुम जानती हो मेरे आने का मक्सद

और मैं जानता हूँ तुम्हारा ।


आ कर मेले में खाली हाथ लौटना मंजूर नहीं मुझे

तुम्हे भी एतराज़ है यात्रा तुम्हारी निष्फल हो रही है

सजधज कर, फिर घर से इतना दूर !   

चलो, ले लेते हैं एक दुसरे का बोझ

और चल पड़ते हैं अपने-अपने घरों में



अपनी-अपनी चूल्हे-चक्कियाँ करती हैं इंतज़ार....

घर बैठे, उन सबों के साथ

अंतरंगता के वही पुराने पन्नों को सहला कर  

सोचते जाएंगे

मेले में कुछ भूल तो नहीं गए !


समझता हूँ मैं जो तुम सोचती हो

अपनी भावना की गठरी से कुछ तो मेरी तरफ़ बिखेरती होंगी  

है कहीं फासला तुम्हारी सोच और मेरी समझ के बीच ?
   
=================
By
A N Nanda
Shimla
27-03-2015
================

   

Labels:

Friday, March 20, 2015

An Eminently Readable Poem

---------------------------------------
This is a poem in Hindi that came in the February-2015 issue of वागार्थ and I found it eminently readable that provides penetrating insights into the creative process and its motivation. Thought, I could scribble something sensible in the shape of reader's impression. Here is what I could produce. I've the poet's permission to do that.
----------------------------------------

मेरे गर्भ में चाँद: संवेदनाओं का गुलदस्ता
--ए एन नन्द
 
सर्जनात्मक अहसास जादुई होता है । वह प्रस्फुटन-सा है, आकस्मिक है, और निस्तब्ध भी । सृष्टि की संभावना घटना-श्रुंखला के रूप में वास्तविकता की सतह पर दस्तक देने के एक पल पहले तक भी सृष्टि कर्ता को इसका पूर्वानुमान शायद ही होता होगा । फिर भी स्रष्टा अपनी सृष्टि का पूरा-पूरा श्रेय लेना चाहता है । सृष्टि के समय जो वेदना होती है और उसके उपरांत अपने निर्माण के साथ जो लगाव होने लगता है तथा उस आत्मतुष्टि का बोध जो उसे अभिभूत कर देता है—उन सबके निचोड़ को ही सृजनात्मकता का नाम दे देता है ।

केवल वेदना और लगाव, दोनों सृजनशील परितंत्र का विधान नहीं करते हैं । इसको समझने के लिए कुछ ख़ासी योग्यता की आवश्यकता होती है । क्या दुनिया की सभी माताएँ यीशु, कान्हा, शुद्धोदन जैसी आत्माओं को जन्म देती हैं? क्या सबकी लेखनी से “कफ़न” और “काबुलीवाला” जैसी कहानियाँ निकलती हैं? क्या सबके गुनगुनाने पर “एकला चलो रे” और “देहि पदपल्लवमुदारम्” जैसी युगांतकारी पंक्तियाँ रची जाती हैं? सृष्टि के रहस्य को वही समझ सकता है जो सृजन के समय दृश्यपटल में होने वाले हर परिवर्तन को भाँपने में सक्षम है, जिसको सृष्टि के हर मकसद के बारे में जानकारी हासिल है, जो विशाल सृष्टि में स्रष्टा की अहमियत को प्रत्यक्ष समझ सकता है । आसमान में तारों का अभूतपूर्व ढंग से चमकना, स्वर्ग से पुष्प वृष्टि होना, बंदियों के पैरों से बन्धन एकाएक खुल जाना, बेवक्त चमेली का महकना—ऐसे जादुई संयोग भी सृष्टि का अटूट हिस्सा हैं ।
    
शेफाली की कविता “मेरे गर्भ में चाँद” ने कुछ ऐसी भावनाओं को उजागर किया है । मानव का आविर्भाव कुदरत के लिए भी हर्ष लाता है यानी यह कुदरत की करिश्माई उपलब्धियों में से अनन्य है । एक साधारण मानव इस सृष्टि प्रक्रिया का माध्यम हो कर असाधारण बन जाता है, उसका डूबता सितारा बुलंद होता है, उसे अमावस की रात में भी आसमान आलोकित मिलता है । नश्वरता के अहसास से भयभीत मानव जब सृष्टि के इस रहस्य को समझने लगता हे, जन्म-मृत्यु उसे निरंतरता बनाए रखने की कुदरती रीति के रूप में दिखाई देती है । वह अपनी संतति के माध्यम से जी कर मृत्यु को परास्त करने की अपनी शक्ति से रूबरू हो जाता है । अपनी कहानी, कवितायों को शस्त्र बना कर विस्मृति के आक्रमण को प्रतिहत करना सीख जाता है। 

कविता की भाव-चेतना मानव की सामग्रिक स्थिति को लेकर ही है जहाँ दुनिया के तमाम बच्चों को विहँसना होता है, माँओं को एकत्र होकर मातृत्व की हिमायत करनी होती है, चारों ओर मुस्कराहट, किलकारियों की गूँज से परिवेश मुखरित होता है और तब जाकर आस्था की परिभाषा मानवीयता के अनुकूल बन जाती है । मातृत्व कोई शर्मिंदगी नहीं; यह वर्तमान व भविष्य के बीच सेतु है, विवर्तन का मधुर संगीत है एक अर्थ में, यह प्रचलित दुनिया में अपना-पराया भाव, क्रूरता, लिंग-भेद आदि संकीर्ण प्रवृति की भयावहता से बच्चों को दूर रखने का संकल्प लेता है, इस कदर अशिष्ट व्यवहार सिखाने वालों को किलकारियों से, लोरियों से और मुस्कराहटों से मुग्ध कर जीने की असली सीख देता है और वे लोग मस्जिद-गिरजा-मंदिरों से निकल कर सृष्टि कर्ता के सामने सिर झुका लेते हैं ।

इस सामग्रिक स्थिति के भाव को लेकर कवयित्री ने और एक दिशा की ओर इंगित किया है । यह सूक्ष्म रूप से क्यों न हों, पर संकेत कन्या भ्रूण हत्या की ओर है । इसलिए माँओं को एकजुट होकर आँचल फैलाना पड़ता है ताकि उन निर्बल आत्माओं को समूह-संहार से बचाया जा सके । यह बिन ब्याहे मातृत्व की ओर भी इंगित करता है जिसके नाते भयंकर पीड़ा से तड़पती माता को समाज छोड़ कर जंगल जाना पड़ता है पर माँओं का सहारा उसे जीने के लिए प्रेरित करता है
    
भावनाओं की गहराई से अपना पोषण लेने वाली कविता जब कभी शब्दों के उथले सतह में दिखाई पड़ती है, हम उसको पकड़ने की कोशिश करते तो हैं, पर कामयाबी कभी-कभार मिलती है । इस रहस्यमयता के चलते कविता विधायों में श्रेष्ठ कहलाती है । शेफाली की कविता “मेरे गर्भ में चाँद” तात्पर्य से भरी है, रूपकात्मक है और पहली पंक्ति से लेकर अंत तक बेहद सार-गर्भित है ।
-------------------------------------                              
शिमला
दिनांक 20-03-2015

Labels: ,

Tuesday, March 10, 2015

Doldrums



                    D o l d r u m s

Something is cooking behind the screen!
A strange feeling overtakes me
There’s no assurance, no guarantee
Yet I’m building a castle brick upon brick.
I’m afraid to imagine the end
End makes redundant the living present
Just a new bark to cover the deadwood
And cover it for good
I don’t know, don’t have a clue.
No smell wafts across
Nobody whispers a word
Nothing casts a shadow, no footfalls heard
Aha! It’s not a spell of doldrums
It’s the lull before the storm
Preparation is afoot, perhaps
For the next scene
That’s the safest guess.
What’s that, so elaborate?
Trying to adjust the next occurrence
Just to suit my present?
To join from where I’ve left?
Or to contrast,
A fresh coat of pigment after a whitewash?
A meaningful sequence of sorts
Yet very random, with no rhyme, no reason?
Really, I don’t know, don’t have a clue
A rationale is ready for everything opposite
The higher logic to make possible everything.
Why things behind the scene so secret?
Surprise: that’s the name of the game
A pleasant surprise of sorts, or a rude shock
And the name of the game is cheating.
----------------------------
By
A. N. Nanda
Shimla
11-03-2015
---------------------------

Labels:

Friday, February 13, 2015

Virasat: A Review


------------------------------
The hundred-eighth issue of the quarterly house magazine of CAG, New Delhi, April-June, 2014, "लेखपरीक्षा-प्रकाश" carried a review of my short-story collections "विरासत", a book published way back in 2008. It's heartening to know that Virasat is able to attract readers' appreciation even though six years have passed in the meanwhile. Thank you Mr Gupta. I can see that you have attempted the review of the book after going through all its stories including its preface. Reviewers these days do the selective reading of the book they review and end up producing shallow contents, but you have done justice to the work you have taken up.
--------------------------------
दास्तान डाक विरासत की
                                             मदन लाल गुप्ता
कार्यालय महालेखाकार, हिमाचल प्रदेश,
                                             शिमला – 3
--------------------------

एक अहिन्दी भाषी लेखक द्वारा हिंदी कहानी में पैठ बनाना धारा के विरुद्ध तैरने का सामान है । हिंदी के अलावा किसी भी भारतीय भाषा में किसी भी विधा में लेखन एक सामान्य बात है । भारतीय भाषाओँ में अनेक लेखक अपनी भाषाओँ में साहित्य सृजन कर रहे हैं । किन्तु जब एक अहिन्दी भाषी साहित्य रचता है और वह भी हिंदी में तो मामला सुरुचिपूर्ण हो जाता है । इसे एक ओर तो साधारण सोच के मुताबिक हिंदी के प्रति प्रेम के रूप में लिया जा सकता है किन्तु इससे आगे सोचने पर यह हिंदी और हिंदी साहित्य के प्रति समर्पण की बात प्रतीत होती है ।

ए. एन. नन्द का हिंदी में कथा संग्रह “विरासत” कई दृष्टिओं से सोचने पर मजबूर करता है । रचनाकार ने तमाम बाधाओं और कठिनाईयों के बावजूद हिंदी में कहानियाँ लिखीं । इस कठिन सफ़र का उल्लेख प्राक्कथन में मिलता है । लेखक हिंदी में लिखने का सफ़र तैर कर पूरा किया है । हिंदी में लिखने की प्रेरणा व प्रोत्साहन के सफ़र में कुछ ने इन्हें सीधा पुरस्कार पाने का सपना दिखा दिया । हिंदी व कहानी सुधारने के प्रयास में जब लोग अपनी दक्षता का पूरा उपयोग करने लगे तो कहानीकार को आपत्ति होना स्वाभाविक था । ऐसे में ‘अहिन्दी भाषी हिंदी लिखने को बेताब’ जैसा दर्जा भी इन्हें मिलाने लगा । बावजूद इस सब के एक अहिन्दी भाषी कथाकार ने हिंदी कहानी में अपना स्थान बनाया, यह स्वागत योग्य है ।

संग्रह की अधिकांश कहानियाँ डाकतार विभाग, डाकघर, डाकिया, डाकघर के कर्मचारी, लैटर बॉक्स के इर्द-गिर्द घूमती है । ‘बुखार’ कहानी का डाकिया पीटर हो, डाकघर के गेस्ट हाउस का ‘कमरा नं 3’ हो, डाकघर में कंप्यूटर आगमन में ‘तीसरा कम्प्यूटर’ हो या सिगरेट की लत छुड़ाने ने के लिए ‘रामजी का रजिस्टर’ हो सब कहानियों में डाकघर और उसका समूचा परिवेश छाया हुआ है । डाकिया पीटर बुखार से पीड़ित होते हुए भी डाक के थैले ले जाने के लिए समुद्र के पानी में गिरने पर भी थैलों को बचाता है । डाकघर में अपना खोया हुआ पर्स, जिसमे संकटमोचन तावीज़ था, प्राप्त करना ‘संकटमोचन तावीज़’ कहानी में दो दोस्तों की दास्तान के बहाने बखाना गया है तो ‘दोस्त का नाम मुचकंद’ कहानी में डाकघर में डकैती का वर्णन है जिसमे लोहे के पिंजरे में घुस कर डकैत सारे नोट एक थैले में भर कर ले जाते हैं । अंत में डाकू आसानी से पकडे जाते हैं ।

‘कबूतरों के साथ’ कहानी में एक कबूतरबाज़ की दास्तान है । रामखिलावन ब्राह्मण होकर भी दफ्तर की भवन में कबूतरों को मार कर खा जाता है । दफ्तर का एक साथी प्रभुदयाल उसे डराता है कि यह कबूतर जो उसने मारा है, पिछले जन्म में छंटाई सहायक था जिसने मरते दम तक चिट्ठियों का साथ नहीं छोड़ा । संयोग से रामखिलावन बीमार हो गया और उसे पेट का कैंसर हो गया । मरने से पहले एक बार उसने दफ्तर जाने की सोची । जब वह दफ्तर आया तो सभी कर्मचारी रात की डियूटी पर तैनात थे । अंत में रामखिलावन कबूतरों के पास गया तो कोई भी कबूतर उससे नहीं डरा ।   

‘बादशाह’ एक व्यंग्य रचना है जिसमें मंत्री के घर के सामने गड़े लेटर बॉक्स में कोई आग लगा देता है । यह मामला तूल पकड़ लेता है और उग्रवाद से लेकर विदेशी हाथ होने तक अंदेशा किया जाता है । पुलिस कमिश्नर की वैठक के बाद और खोजी कुत्तों की सहायता से तहकीकात आरम्भ होती है । बदमाशों की लिस्ट निकालकर खोज की गई किन्तु सब बेकार । अंत में एक पागल, जिसे बादशाह कहते थे इस जुर्म में जेल में डाल दिया गया जिसे कुछ वर्ष बाद कोर्ट ने बरी भी कर दिया । ‘इंसाफ के लिए’ भी ऐसी ही व्यंग्य रचना है जिसमें वकील मित्रभानु डाक कर्मचारी से उलझने के सम्बन्ध में बदला लेने के लिए एक बीस साल पुराने कार्ड को लेटर बॉक्स में डाल देते हैं जो ताज़ा मुहर लगाकर उन्हें वितरित फिर से हो जाता है । बस वकील उस कार्ड को लेकर अखबारों में खबर देने के साथ पचास हज़ार हर्जाने के लिए उपभोक्ता फोरम में भी शिकायत डाल देता है । कोर्ट से जुर्माने भरने के बदले डाकघर की कुरसी मेज तक नीलाम हो जाते हैं ।

ए. एन. नन्द की कहानियों में डाक है, डाक छंटाई करने वाला है, डाक वांटने वाला डाकिया है, जादुई लेटर बॉक्स है, लेटर बॉक्स जलाने वाले हैं, डाकघर में जमा पूंजी है तो उस पर डकैती डालने वाले भी हैं; डाक और तार जैसे एक से विभागों में बढ़ती दूरियाँ भी हैं ।

डाक तार विभाग कभी एक होते हुए उनकी साथ लगी कॉलोनियों में एक दीवार खड़ी कर दी गई जिसे डाक के कर्मचारियों ने पुलिस के हस्तक्षेप से पहले तुड़वा डाला । आधी टूटी दीवार अब बच्चों के आँखमिचौनी खेलने के लिए जगह बन गई । अपना सेवाकाल पूरा करते हुए पैंतीस साल के तजुर्बे के बाद अंत में अपने ही इलाके में चीफ पोस्टमास्टर जनरल बन कर आना बहुत सुखद था भारतेंदु के लिए कि अपने क्षेत्र के लिए कुछ काम कर पाएँगे । किन्तु घर का हाल यह था कि अब तक अपने रहने के लिए मकान तक नहीं बनवा पाए थे । मकान बनवाने के तरीके तो माह्तहत (?) लोग सुझा रहे थे, मगर उनके पास अभी ज़मीन ही नहीं थी । आखिर डाक लाने और ले जाने वाले एक शख्स रूंगटा बिना कमिशन लिए ज़मीन दिलाने का वादा किया । रूंगटा ने अग्रिम ले लिया, रिटायरर्मेंट तक ज़मीन नहीं ढूँढ पाया । आखिर उन्हें अपनी पैतृक ज़मीन में ही घर बनाना पड़ा ।

‘जुर्माना’ कहानी में डाक निरीक्षक मनमोहन का तबादला ऐसी जगह होता है जहाँ सरकारी आवास के पीछे कटहल का पेड़ था । उस पेड़ में चार कटहल लगे । पिछले साल सरकार को कटहल बेच कर इस मद में एक ही रुपया मिला था । इस साल वे ज्यादा से ज्यादा पैसे उगाह कर सरकार को देना चाहते थे । एक बार मनमोहन के बाहर गश्त पर जाने के समय नित्यानंद अर्दली ने एक कटहल तोड़ लिया और मनमोहन की पत्नी ने मजे से पांच-पांच सब्जियाँ बना कर खाई । मनमोहन जब वापिस लौटे तो उन्हें बहुत दुःख हुआ और पेड़ के पास गड्ढा खोद कर उसमे एक रूपया कटहल का और चवन्नी जुर्माने के दबा दिए । ‘विरासत’ कहानी का मेधावी मगनलाल मेट्रिक में तिरानवे प्रतिशत अंक लेकर पास हुआ किन्तु पिता ने उसे डाक विभाग में डाक सहायक लगवा दिया । उसके साथी अच्छी-अच्छी नौकरियों में लगे । दिन भर नौकरी करने के कारण वह विभागीय परीक्षाएँ भी नहीं दे पाया और तीन बार असफल हो गया । उसके दो बच्चे भी मैट्रिक में फेल हो गए । इन नाकामियों से वह अपना मानसिक संतुलन तक खो बैठा । उसने मन बनाया था कि अपने बेटे को कभी डाक विभाग में नहीं लगवाऊँगा किन्तु अंत में अपने मैट्रिक फेल लडके को डाक वाहक ही लगवाना पडा ।

संग्रह के तीस कहानियाँ हैं या यूं कहें तीस छोटी कहानियाँ हैं । ये इतनी छोटी भी नहीं की इन्हें लघु कथा का रूप दिया जाए । किन्तु छोटी होने से ये अपनी बात सीधे-सीधे पाठकों तक पहुँचाने का काम करती हैं । इन कहानियों की दूसरी विशेषता डाकघर परम्परा से जुड़ा है । क्योंकि कथाकार इसी विभाग में कार्यरत है । अतः डाक परम्परा, जिसने हमारे जीवन में एक भावनात्मक भूमिका निभाई है, आज विलुप्त होने के कगार पर है । प्रत्येक भारतीय, विशेषकर ग्रामवासी जिस कदर डाक, डाकघर से जुड़ा रहा है, वह अदभुत है । आधुनिक तकनीक, तेजी से बदलती सूचना प्रौद्योगिकी और बदलते समय के प्रभाववश आज डाकघर और डाक परंपरा एक विरासत बनती जा रही है । पत्र, जो एक सशक्त माध्यम था संपर्क का, जिसका इंतज़ार लगा रहता था पल-पल, छिन-छिन, आज इतिहास होता जा रहा है ।

एक ही विषय, एक ही भावभूमि पर लिख पाना एक चुनौती भरा काम होता है । इसमे एक रसता और नीरसता हो जाने का भय बना रहता है । संग्रह की लगभग सभी कहानियाँ डाक व डाकघर पर होते हुए भी नीरस नहीं है । इन में विविधता और सरसता बराबर बनी रहती है । 
--------------------------------
Posted by
A. N. Nanda
Shimla
14-02-2015
--------------------------------

Labels: ,